इंटरव्यू
Guru Dutt

गुरु दत्त की बायोपिक बड़े पर्दे पर ही रिलीज की जा सकती है: भावना तलवार

By आईएएनएस

मुंबई, 7 सितंबर (आईएएनएस) । नेशनल अवॉर्ड विजेता फिल्मकार भावना तलवार दिवंगत प्रतिष्ठित फिल्म निर्माता व अभिनेता गुरु दत्त की बायोपिक का निर्देशन करने के लिए तैयार हैं।

बायोपिक का शीर्षक प्यासा है। तलवार अपनी फिल्म के लिए कलाकारों को चुनने की प्रक्रिया में हैं। दत्त का जीवन गहन और जटिल रहा है, इसलिए इस कहानी को लिखने में तलवार को सात साल लग गए। फिर भी इस बायोपिक को वेब सीरीज फॉरमेट में बताते की बजाय, उन्होंने विस्तृत कहानी को फीचर फिल्म के तौर पर पेश करने का विकल्प चुना है।

तलवार ने आईएएनएस से कहा, उनका व्यक्तित्व लार्जर दैन लाइफ की तरह था और मात्र 10 सालों के भीतर ही उन्होंने एक फिल्म निर्माता के तौर पर सफलता, अभिनेता के तौर पर सफलता, अपने सिनेमा की व्यावसायिक सफलता, एक अभिनेता के रूप में अपने प्रशंसकों की प्रशंसा और गीता दत्त के साथ लगाव और फिर पत्नी के तौर पर उन्हें पाना, सब कुछ पा लिया था। हालांकि इसके साथ ही उन्होंने दुख भी देखा। आप इसे छोटे पर्दे में नहीं दिखा सकते हैं। यह एक फीचर फिल्म प्रारूप के योग्य है।

उन्होंने आगे कहा, कहानी को 10 घंटे की कहानी के तौर पर पेश करने की आवश्यकता नहीं है। उनकी यात्रा आकर्षक है और बड़े पर्दे पर दिखाने के काबिल है। विस्तृत शोध कार्य के लिए मुझे सात साल लग गए, और एक आकर्षक कहानी लिखने के लिए कई विचार-विमर्श हुए, जो न सिर्फ मुझे और मेरी टीम को, बल्कि एक नई पीढ़ी के दर्शकों को भी पसंद आएगी और वे फिल्म देखने के लिए थिएटर जाना चाहेंगे।

अपनी फिल्म में भावना ने गुरु दत्त को एक टेलीफोन ऑपरेटर से भारतीय सिनेमा के एक प्रमुख व्यक्ति के रूप में परिवर्तित होने के सफर को दिखाया है।

उन्होंने आगे कहा, एक दिलचस्प बात यह है कि कैसे उनके व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन आपस में जुड़ गए। गीता दत्त से उनकी मुलाकात फिल्म बाजी के दौरान हुई और ये दोनों नवोदित प्रतिभाए स्टार बन गए और शादी कर ली, और उनके व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन एक-दूसरे में झलकते नजर आए। यह काफी रोचक यात्रा है।

--आईएएनएस

एमएनएस-एसकेपी