इंटरव्यू
कोविड-19 , घर, रेडियो शोज

कोविड-19 : घर पर रहकर आरजे कर रहे हैं रेडियो शोज

By --दुर्गा चक्रवर्ती

नई दिल्ली, 25 मार्च (आईएएनएस)| कोरोनावायरस के कहर को देखते हुए पूरे देश में 21 दिनों तक लॉकडाउन का आदेश दिया गया है, लेकिन इस दौरान एफएम रेडियो के कार्यक्रमों को नहीं रोका जाएगा। इस माध्यम के जरिए लाखों की तादात में लोगों के बीच अपनी बात रखी जा सकती है। आज इस मुश्किल घड़ी में जब लोगों को आश्वासन और उम्मीदों की तलाश है, ऐसे में आरजे या रेडियो जॉकी उनका भरपूर साथ निभा रहे हैं। 

आज जब पूरे देश में वर्क फ्रॉम होम (घर से काम) का सिलसिला चल रहा है, ऐसे में रेडियो जॉकी भी इस वक्त अपने-अपने घरों में हैं और यहीं से वे अपने श्रोताओं का मनोरंजन कर रहे हैं।

'मुंबई की रानी' के नाम से मशहूर आरजे मलिश्का पिछले एक हफ्ते से अपने घर में रहकर काम कर रही हैं।

उन्होंने आईएएनएस को बताया, "हमने इस बात को महसूस किया कि हम अपने साथ-साथ दूसरों को खतरे में नहीं डाल सकते हैं, क्योंकि हम छोटे-छोटे स्टूडियोज में काम करते हैं, जहां लोग निरंतर अंदर-बाहर आते-जाते रहते हैं। सेलेब्रिटीज आते रहते हैं।"

वह आगे कहती हैं, "लोग कई तरीकों से अपने काम कर रहे हैं-जैसे कि मेरे पास एक लैपटॉप है, जिसमें कि एक खास तरह का सॉफ्टवेयर है, माइक है और हेडफोन्स हैं। इनसे मैं रेडियो स्टेशन के अपने लॉग पर काम कर सकती हूं। हम सामान्यत: इसे तीन तरीके से करते हैं, मैं अपना लिंक भेजती हूं, मेरे प्रोड्यूसर इसे एडिट कर म्यूजिक में डाल देते हैं। ऐसा कई रेडियो स्टेशनों में हो रहा है।"

आरजे आकृति को घर से काम करना बिल्कुल भी नहीं भा रहा है।

उन्होंने आईएएनएस को बताया, "घर से काम करना बेहद मुश्किल हो रहा है। काम दोगुना हो गया है। स्टूडियो का माहौल घर से कहीं अलग होता है।"

आरजे मकिन ने आईएएनएस को बताया, "हम लैपटॉप का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिसमें हमने एक ऐप इंस्टॉल कर रखा है, जो सभी गानों, लॉग्स और जो कुछ भी हमें स्टेशन से कहना होता है, उन पर अपना नियंत्रण बनाए रखता है। आईटी के लोगों ने हमें एक रिमोट एक्सेस दे रखा है, जिससे हम अपने लैपटॉप से अपने कार्यक्रम को कंट्रोल कर सकते हैं।"

कुछ इस कदर देश भर के तमाम आरजे भी अपने घरों में रहकर इस मुश्किल घड़ी में समय-समय पर आपका मनोरंजन कर रहे हैं और निरंतर आपके साथ बने हुए हैं।

--आईएएनएस